समभारिक किसे कहते हैं इसके उपयोग, उदहारण तथा गुण

समभारिक किसे कहते हैं
2.2/5 - (4 votes)

दोस्तों एक बार फिर से हम आपके लिए बहुत खास आर्टिकल समभारिक किसे कहते हैं लेकर आए हैं। पिछले लेख में आपने समस्थानिक ओं के बारे में विस्तार से जाना था। कक्षा 9 से लेकर हायर क्लास में रसायन विज्ञान में समस्थानिक के बारे में हर जगह चर्चा होती है। इसलिए यह लेख आपके लिए बहुत खास होने वाला है। परमाणु एक बहुत विस्तार विषय है। इसके बारे में जितना जानो उतना ही कम है। समस्थानिक और समभारिक परमाणुओं की विशेषता है जो आज आपको विस्तार से पता लगेगी। प्रोटोन, न्यूट्रॉन और इलेक्ट्रॉन के बारे में विस्तार से जानने के लिए आप हमारे वेबसाइट पर पहले के लेखों को पढ़ सकते हैं।

आज हम कुछ महत्वपूर्ण प्रश्न की बात करेंगे जो प्रतियोगी परीक्षाओं और बोर्ड की परीक्षा में बहुत पूछे जाते हैं। यह प्रश्न कुछ इस प्रकार से होंगे कि समभारिक किसे कहते हैं समभारिक के (Sambharik Kise Kahate Hain), समभारिक के उपयोग लिखिए (Isobars meaning in hindi) तथा समभारिक के उदाहरण बताइए। समस्थानिक और समभारिक के उदाहरण लिखिए आदि। आप हमारा यह लेख अंत तक जरूर पढ़ें ताकि आपको सभी प्रश्न आसानी से समझ में आए। तो बिना किसी देर के लिए शुरू करते हैं आज का आर्टिकल समभारिक किसे कहते हैं।

समस्थानिक किसे कहते हैं?

समभारिक की परिभाषा या समभारिक किसे कहते हैं?

ऐसे परमाणु जिन का परमाणु भार तो समान होता है परंतु परमाणु क्रमांक भिन्न-भिन्न होता है समभारिक (Isobar in Hindi) कहलाते हैं। इनमें परमाणु के नाभिक में प्रोटॉन की संख्या अलग-अलग होती है परंतु प्रोटॉन तथा न्यूट्रॉन का योग एक समान रहता है। यहां पर यह सिद्ध हो सकता है कि समभारिक परमाणु में प्रोटॉन और न्यूट्रॉन तथा इलेक्ट्रॉनों की संख्या अलग-अलग होती हैं। 

समभारिक के उदाहरण

आइए अब आपको समभारिक के बारे में हम उदाहरणों के माध्यम से समझाने का प्रयास करेंगे। आर्गन और कैल्शियम दो अलग-अलग परमाणु है और उनके परमाणु क्रमांक क्रमशः 18 और 20 हैं। इनके परमाणु भार समान पाए जाते हैं अर्थात परमाणु भार का मान 40 होता है। इस प्रकार यह दोनों एक दूसरे के समभारिक परमाणु तत्व है।

इसी प्रकार एक अन्य उदाहरण से समझते हैं। कार्बन -14 तथा नाइट्रोजन -14 क्रमश: कार्बन और नाइट्रोजन तत्व के परमाणु हैं। इन दोनों के परमाणु भार समान होते हैं जिसका मान 14 होता है। तथा परमाणु क्रमांक भिन्न-भिन्न क्रमश: 6 और 7 होता है। इस प्रकार कार्बन 14 और नाइट्रोजन 14 आपस में समभारिक तत्व है।

समभारिक के उदाहरण

समभारिक के गुण

अब हम अपने इस आर्टिकल समभारिक किसे कहते हैं के माध्यम से आपको समभारिक के गुणधर्म के बारे में बताने जा रहे हैं कृपया ध्यान से पढ़ें। समभारिक के गुणधर्म निम्न प्रकार हैं :

  • इन तत्वों में proton की संख्या भिन्न-भिन्न होती है।
  • इन तत्वों में परमाणु क्रमांक भिन्न-भिन्न होते हैं परंतु परमाणु द्रव्यमान अर्थात परमाणु भार समान होता है।
  • जब समभारिक तत्वों का इलेक्ट्रॉनिक विन्यास बनाया जाता है तो समभारिक तत्वों का इलेक्ट्रॉनिक विन्यास भिन्न भिन्न पाया जाता है।
  • इन तत्वों में इलेक्ट्रॉन, प्रोटॉन और न्यूट्रॉन की संख्या समान नहीं पाई जाती है। 
  • आवर्त सारणी में समभारिक को अलग-अलग स्थान प्राप्त होता है।

समभारिक के उपयोग

अब हम अपने इस आर्टिकल समभारिक किसे कहते हैं के माध्यम से आपको समभारिक के उपयोगों के बारे में बताने जा रहे हैं कृपया ने ध्यान से पढ़ें। समभारिक के उपयोग निम्न प्रकार हैं :

  • नाभिकीय रिएक्टर या परमाणु रिएक्टर में समभारिकों का उपयोग किया जाता है।
  • कुछ गंभीर बीमारी जैसे कि कैंसर आदि के उपचार कोबाल्ट तत्व के समभारिक को उपयोग में लाया जाता है।
  • मौसम के नक्शे बनाने में भी समभारिक तत्वों का प्रयोग किया जाता है।
  • घेंघा जैसी बीमारियों का उपचार करने के लिए आयोडीन तत्व के समभारिक का प्रयोग किया जाता है।
  • अंतरिक्ष विज्ञान जैसे विषयों में भी समभारिक तत्व का प्रयोग किया जाता है।

समभारिक के उपयोग

नार्मलता किसे कहते हैं?

समन्यूट्रॉनिक किसे कहते हैं?

भिन्न भिन्न पदार्थों के ऐसे परमाणु जिन के नाभिक में प्रोटॉन की संख्या अलग-अलग होती है परंतु न्यूट्रॉन की संख्या समान होती है। यहां ध्यान देने योग्य बात यह है कि सम न्यूट्रॉनिक परमाणु में परमाणु क्रमांक और परमाणु भार दोनों अलग-अलग होते हैं ऐसा समन्यूट्रोनिक परमाणु में केवल न्यूट्रॉन की संख्या समान होती है अन्य किसी की नहीं।

न्यूट्रॉन की संख्या = द्रव्यमान संख्या – प्रोटॉन की संख्या (परमाणु संख्या)

समन्यूट्रॉनिक के उदाहरण निम्न प्रकार है:

36S16, 37Cl17, 38 Ar 18, 39K 19 और  40 Ca 20

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न (FAQs)

प्रश्न. आइसोबार (Isobars) क्या है?
उत्तर : आइसोबार ऐसे तत्व होते हैं जिनमें समान संख्या में न्यूक्लियॉन (प्रोटॉन और न्यूट्रॉन का योग) होता है। तत्वों के नाभिक में नाभिक में समान संख्या में कण होते हैं लेकिन प्रोटॉन और न्यूट्रॉन की संख्या अलग-अलग होती है।

प्रश्न. न्यूट्रॉन क्या है?
उत्तर : एक न्यूट्रॉन एक विद्युत रूप से Neutral कण है जिसका द्रव्यमान (Atomic Mass) लगभग हाइड्रोजन परमाणु के बराबर होता है। मौलिक रूप से, यह सामान्य Hydrogen को छोड़कर परमाणु के नाभिक में मौजूद एक उप-परमाणु कण है। 

प्रश्न. आइसोटोप (Isotops) क्या है?
उत्तर :
समस्थानिक एक ऐसे तत्व के सदस्य होते हैं जिनमें सभी में प्रोटॉन (Proton) की संख्या समान होती है लेकिन न्यूट्रॉन की संख्या भिन्न होती है।

प्रश्न. आइसोटोन क्या हैं?
उत्तर : आइसोटोन ऐसे परमाणु होते हैं जिनकी न्यूट्रॉन संख्या समान होती है लेकिन प्रोटॉन संख्या भिन्न होती है। उदाहरण के लिए,  36 16 S, 37 17 Cl, 38 18 Ar, 39 19 K और 40 20 Ca सभी 20 के आइसोटोन हैं क्योंकि इन सभी में 20 न्यूट्रॉन होते हैं।

प्रश्न. न्यूट्रॉन की खोज किसने की?
उत्तर : न्यूट्रॉन की खोज जेम्स चाडविक ने की थी।

निष्कर्ष

आज के आपने इस लेख में जाना कि समभारिक किसे कहते हैं? (Isobars in Hindi), समभारिक के बारे में आपको आज बहुत सारी जानकारी प्राप्त हुई होगी। और आपने ऐसे बहुत अच्छे से समझ भी लिया होगा। यदि आपको हमारा आज का यह लेख पसंद आया हो तो आप इसे अपने अन्य दोस्तों में भी शेयर कर सकते हैं जिससे कि उन्हें भी समभारिक के बारे में अच्छी जानकारी प्राप्त हो सके। इस लेख से संबंधित किसी भी सुझाव के लिए आप कमेंट सेक्शन का इस्तेमाल करके हमसे संपर्क कर सकते हैं। बहुत जल्द मिलेंगे एक नया आर्टिकल के साथ अब तक के लिए धन्यवाद।

 

SOCIAL SHARE

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *