अभिक्रिया की कोटि किसे कहते हैं? परिभाषा, प्रकार तथा उदाहरण

अभिक्रिया की कोटि किसे कहते हैं
3.7/5 - (19 votes)

दोस्तों स्वागत है आपका हमारी हिंदी केमिस्ट्री की इस वेबसाइट परI आज के इस आर्टिकल में हम आपको बताएँगे अभिक्रिया की कोटि किसे कहते हैं? अभिक्रिया की परिभाषा क्या है? अभिक्रिया कितने प्रकार की होती है? तथा इसके उदाहरण कौन कौन से हैं? इसके बारे में हम आपको विस्तार से बताएँगे I यह एक महत्वपूर्ण टॉपिक है, इस टॉपिक से संबंधित प्रश्न परीक्षा में पूछ लिए जाते हैंI इसीलिए इस टॉपिक के बारे में केमिस्ट्री के सभी स्टूडेंट़स को पता होना चाहिए I अभिक्रिया की कोटि किसे कहते हैं? इस टॉपिक के बारे में जानने के लिए टॉपिक को अंत तक जरूर पढ़ेंI

इससे पिछले आर्टिकल में हमने आपको आईयूपीएसी किया है? इसके बारे में विस्तार के साथ बताया, जो एक महत्वपूर्ण टॉपिक हैI इस टॉपिक से संबंधित प्रश्न परीक्षा में पूछ लिए जाते हैं यदि आपने अभी तक इस महत्वपूर्ण टॉपिक को नहीं पढ़ा हैI तो आप हमारी हिंदी केमिस्ट्री की इस वेबसाइट से इस टॉपिक को पढ़ सकते हैं I आज के इस आर्टिकल में हम आपको अभिक्रिया की कोटि किसे कहते हैं? इसके साथ साथ अभिक्रिया की परिभाषा क्या है? तथा अभिक्रिया कितने प्रकार की होती है? साथ ही इसके उदाहरण कौन से हैं? इसके बारे में विस्तार से बताने वाले हैंI अभिक्रिया की कोटि से संबंधित जानकारी पाने के लिए इस आर्टिकल को अंत तक जरूर पढ़ें ताकि यह आर्टिकल आपको अच्छे से समझ आ सके I

आईयूपीएसी क्या है?

अभिक्रिया की कोटि की परिभाषा

किसी रसायनिक अभिक्रिया में अभिक्रिया के वेग को निर्धारित करने वाले अभिकारक के अणुओं की कुल संख्या को अभिक्रिया की कोटि कहते है I या “वेग नियम में निहित सभी अभिकारको की सान्द्र्ताओ की घातो के योग को उस अभिक्रिया की कुल कोटि कहा जाता है”I  अब हम आपको अभिक्रिया की कोटि के उदहारण के बारे में बताने बाले है  की अभिक्रिया की कोटि के उदहारण कौन कौन से है I

अभिक्रिया की कोटि का उदहारण

अभिक्रिया की कोटि का उदहारण निम्नलिखित है I

उदहारण. 1

SOCl2   ___________> SO + Cl

(अभिकारक)                    (उत्पाद)

अभिकारक का वेग = K [SO2Cl2]

अभिक्रिया की कोटि = प्रथम कोटि की अभिक्रिया

उदहारण. 2

2FeCl3 + SnCl2 _________>  SnCl+ 2FeCl

अभिक्रिया का वेग = K[FeCl3]. [SnCl2]

अभिक्रिया का वेग = 3

अभिक्रिया की कोटि = त्रितिय कोटि की अभिक्रिया

अभिक्रिया की कोटि के प्रकार

हमने आपको उपरोक्त में बताया की अभिक्रिया की कोटि किसे कहते हैं? और साथ ही अभिक्रिया की कोटि के उदहारण भी बताये I  अब हम आपको बताने जा रहे है अभिक्रिया की कोटि के प्रकार की अभिक्रिया की कोटि कितने प्रकार की होती है I

अभिक्रिया की कोटि चार प्रकार की होती है I

  1. शून्य कोटि की अभिक्रिया
  2. प्रथम कोटि की अभिक्रिया
  3. द्वीतीय कोटि की अभिक्रिया
  4. तृतीय कोटि की अभिक्रिया

अभिक्रिया की कोटि के प्रकार

अभिक्रिया की कोटि के प्रकार विस्तार से  निम्नलिखित हैंI

शून्य कोटी की अभिक्रिया

वे अभिक्रियाएँ जिनमें अभिक्रिया का वेग अभिकारक अणुओं की सान्दर्ता के गुणनफल के शून्य घात के समानुपाती होता है, शून्य कोटि की अभिक्रिया कहलाती हैI शून्य कोटि की अभिक्रिया का उदहारण निम्न है I

उदहारण: 

H +  Cl2  ___________________>  2HCl

उपरोक्त अभिक्रिया शून्य कोटि की अभिक्रिया है I

प्रथम कोटि की अभिक्रिया

वे अभिक्रियाएँ जिनमे अभिक्रिया का वेग अभिकारक के अणुओं की सान्द्रता के गुणनफल की प्रथम घात के समानुपाती होता है, प्रथम कोटि की अभिक्रिया कहलाती हैI प्रथम कोटि की अभिक्रिया का उदहारण निम्न है I

उदहारण: 

SO2Cl _________________> SO2 + Cl2

(अभिकारक)                           (प्रथम कोटि)

अभिकारक का वेग = K [ SO2Cl2 ]

प्रथम कोटि की अभिक्रिया = 1

उपरोक्त अभिक्रिया प्रथम कोटि की अभिक्रिया है I

द्वीतीय कोटि की अभिक्रिया

वे अभिक्रियाएँ जिनका वेग अभिकारक की सान्द्रता के द्वीतीय घात के समानुपाती होता है द्वीतीय कोटि की अभिक्रिया कहलाती हैI द्वीतीय कोटि की अभिक्रिया का उदहारण निम्न है I

उदहारण: 

CH3COOC2H5 + NaOH  CH3COONa +  C2H5OH 

(अभिकारक)                         (द्वितीय कोटि)

अभिक्रिया का वेग = K [ CH3COOC2H]  [ NaOH ]

अभिक्रिया की कोटि = 2

उपरोक्त अभिक्रिया द्वितीय कोटि की अभिक्रिया है I

तृतीय कोटि की अभिक्रिया

वे सभी अभिक्रियाएँ जिनकी दर अभिकारक की सान्द्रता के तीन घात पर निर्भर करती है, तृतीय कोटि की अभिक्रिया कहलाती हैI या वे रासायनिक अभिक्रियाएँ जिनके प्रियोगिक वेग समीकरण में अभिकारको की सान्द्रता की घातों का योगफल तीन होता है तृतीय कोटि की अभिक्रिया कहलाती हैI तृतीय कोटि की अभिक्रिया के उदहारण निम्न है I

उदहारण:

2NO + O2 __________>2NO2

(अभिकारक)                               (तृतीय कोटि)

अभिक्रिया का वेग =  K [ NO ]2. [ O]

अभिक्रिया की कोटि = 3

उपरोक्त अभिक्रिया तृतीय कोटि की अभिक्रिया है I

अभिक्रिया की कोटि कैसे ज्ञात करें?

हमने आपको उपरोक्त में बताया कि अभिक्रिया की कोटि किसे कहते हैं? अभिक्रिया की कोटि की परीभाषा, अभिक्रिया की कोटि के उदहारण तथा इसके साथ साथ अभिक्रिया कितने प्रकार की होती है यह जानकारी आपको दी I अब हम आपको बताएँगे की अभिक्रिया की कोटि कैसे ज्ञात करते हैं जो निम्नलिखित हैं I

 

अभिक्रिया की कोटि = mA + nB = P

[A][B]n = m+n

वेग  = K [A] [B]-1 = m+n = (+1 -1 ) = 0

वेग  = K [A]1/2  [B]3/2  = m+n = 1/2 + 3/2 = 1+3/2 = 4/2 = 2

वेग  = K [A]3/2 [B]-1  = m+n = 3/2 -1 = 3-2/2 = 1/2 = 0.5

वेग  = K [A]  [B]2  = m+n = 1+2 = 3

अभिक्रिया की कोटि कैसे ज्ञात करें

संतुलित रासायनिक समीकरण क्या है?

निष्कर्ष

आज के इस आर्टिकल में हमने आपको बताया अभिक्रिया की कोटि किसे कहते हैं? अभिक्रिया की कोटि की परीभाषा, अभिक्रिया की कोटि के उदहारण के बारे में बिस्तार के साथ बताया हैI इसके साथ साथ ही हमने आपको बताया कि अभिक्रिया की कोटि कितने प्रकार की होती है यह बताते हुए हमने आपको शून्य कोटि अभिक्रिया, प्रथम कोटि अभिक्रिया, द्वितीय कोटि अभिक्रिया, तृतीय कोटि अभिक्रिया के बारे में भी एक सरल भाषा में बिस्तार के साथ बताया हैI इसके साथ ही हमने आपको अभिक्रिया की कोटि कैसे ज्ञात करते हैं इसके बारे में भी उदहारण सहित बिस्तार के साथ बताया हैI

यह एक बहुत ही महत्वपूर्ण टॉपिक है और सरल भाषा में समझाया गया हैI इस टॉपिक के बारे में केमिस्ट्री के सभी स्टूडेंट्स को पता होना जरूरी हैI इसी प्रकार के महत्वपूर्ण टॉपिक की जानकारी हम अपनी इस वेबसाइट पर देते रहते हैंI केमिस्ट्री से संबंधित अन्य महत्वपूर्ण जानकारी पाने के लिए जुड़े रहिये हमारी हिंदी केमिस्ट्री की इस वेबसाइट के साथ तब तक के लिए धन्यवाद I

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *