क्वांटम संख्या किसे कहते हैं, क्वांटम संख्या की परिभाषा और प्रकार

क्वांटम संख्या किसे कहते हैं
4.5/5 - (6 votes)

दोस्तों स्वागत है आपका हमारी हिंदी केमिस्ट्री की वेबसाइट पर। आज के इस आर्टिकल में हम आपको क्वांटम संख्या किसे कहते हैं? क्वांटम संख्या की खोज किसने की, क्वांटम संख्या की परिभाषा क्या होती है, यह कितने प्रकार की होती है? चुंबकीय क्वांटम संख्या किसे कहते हैं? चक्रण क्वांटम संख्या क्या है? इसके बारे में विस्तार के साथ बताएँगे तथा इसके साथ साथ हम आपको  मुख्य क्वांटम संख्या क्या है? इसके बारे में विस्तार के साथ बताएँगे। क्वांटम संख्या एक बहुत ही महत्वपूर्ण टॉपिक है जिसके बारे में केमिस्ट्री के छात्रों को पता होना चाहिए और क्वांटम संख्या निकलना आना चाहिए।

पिछले आर्टिकल में हमने आपको नाइट्रिक अम्ल का सूत्र क्या है? इसके बारे में विस्तार के साथ बताया। जो एक बहुत ही महत्वपूर्ण टॉपिक है जिसे आप हमारी इस हिंदी केमिस्ट्री की वेबसाइट पर पढ़ सकते हैं और नाइट्रिक अम्ल से सम्बंधित जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। आज के इस आर्टिकल में हम आपको क्वांटम सख्या किसे कहते हैं इसके बारे में विस्तार से बताएँगे और हम आपको आज के इस आर्टिकल में क्वांटम संख्या से सम्बंधित महत्वपूर्ण प्रश्नों को बताएँगे। क्वांटम संख्या एक बहुत महत्वपूर्ण टॉपिक है। इससे सम्बंधित प्रश्न परीक्षाओं में पूछ लिए जाते हैं। इसलिए इस टॉपिक को अंत तक जरूर पढ़े।

समभारिक किसे कहते हैं?

क्वांटम संख्या की परिभाषा

वे संख्याएँ जो किसी परमाणु में उपस्थित इलेक्ट्रान के कोश (Shell), उपकोश (Subshell), कक्षक और इलेक्ट्रान की चक्रण की दिशा को व्यक्त करता है उसे क्वांटम संख्या कहते हैं। अथवा अगर हम इसे आसान सी भाषा में समझे तो हम यह कह सकते हैं इलेक्ट्रान किस कोश, किस उपकोश, किस कक्षक में है या इलेक्ट्रान जिस कक्षक में है तो वह किस दिशा में चक्कर लगाता है। इन संख्याओं को बताने के लिए जिन संख्याओं का उपयोग किया जाता है उन्हें हम क्वांटम संख्या कहते हैं। क्वांटम संख्या को हम इस प्रकार भी समझ सकते हैं परमाणु में उपस्थित इलेक्ट्रान की स्थिति, आकार, आकृति तथा ऊर्जा आदि की जानकारी क्वांटम सख्या के आधार पर ज्ञात कर सकते हैं। इस प्रकार इलेक्ट्रान की अलग अलग जानकारी को अलग अलग क्वांटम संख्या के द्वारा समझा जा सकता है।

क्वांटम संख्या की परिभाषा

क्वांटम संख्या के प्रकार

ऊपर के आर्टिकल में हमने आपको क्वांटम संख्या की परिभाषा क्या होती है इसके बारे में विस्तार के साथ बताया। अब हम आपको क्वांटम संख्या के प्रकार के बारे में एक एक करके विस्तार के साथ बताएँगे। क्वांटम संख्याएँ चार प्रकार की होती हैं और इलेक्ट्रान की  जानकारी को अलग अलग क्वांटम संख्या के द्वारा समझा जा सकता है। ये क्वांटम संख्याएँ निम्नलिखित हैं।

  1. मुख्य क्वांटम संख्या (Principal Quantum Number)
  2. द्विगंशी क्वांटम संख्या (Azimuthal Quantum Number)
  3. कक्षीय चुम्बकीय क्वांटम संख्या (Orbital Magnetic Quantum Number)
  4. चक्रण क्वांटम संख्या (Spin Quantum Number)

1. मुख्य क्वांटम संख्या (Principal Quantum Number)

मुख्य क्वांटम संख्या इलेक्ट्रान की कक्षा तथा ऊर्जा स्तर को दर्शाती है इसके द्वारा यह भी पता चल जाता है कि इलेक्ट्रान नाभिक से कितनी दूरी पर है और उसका आकार क्या है। मुख्य क्वांटम संख्या इलेक्ट्रान की कक्षा संख्या व्यक्त करती है। मुख्य क्वांटम संख्या को (n) से प्रदर्शित करते हैं। बोर-सोमरफील्ड के अनुसार n का कोई पूर्णांक मान 1,2,3,4,5, आदि हो सकता है। यदि n = 1 है तो इसका अर्थ है कि इलेक्ट्रान पहली कक्षा और K कोश में उपस्थित है। कक्षा को  1,2,3,4……..आदि से प्रदर्शित करते हैं और कोश को K,L,M आदि के द्वारा प्रदर्शित करते हैं।

2. द्विगंशी क्वांटम संख्या (Azimuthal Quantum Number)

द्विगंशी क्वांटम संख्या (Azimuthal Quantum Number) उप ऊर्जा स्तर या उपकोश तथा इलेक्ट्रान के कोणीय संवेग को प्रदर्शित करती है और इसके साथ साथ इलेक्ट्रान कक्षक के आकृति को भी प्रदर्शित करती है इसे l से प्रदर्शित करते हैं। इस क्वांटम संख्या द्वारा किसी कक्षा में उपस्थित उपकोशो की संख्या को प्रदर्शित किया जाता है। जैसे 1, 2, 3…..आदि या उपकोश s,p,d,f द्वारा दर्शाया जाता है। n के किसी मान के लिए l का मान 0 से n – 1 तक हो सकता है। l का मान जितना अधिक होता है परमाणु का आकार उतना ही अधिक होता है अर्थात हम कह सकते हैं इलेक्ट्रान की नाभिक से दूरी उतनी ही अधिक होती है। इसका मतलब है l का मान जितना अधिक होगा नाभिक बल उतना ही कम लगेगा।

3. कक्षीय चुम्बकीय क्वांटम संख्या (Orbital Magnetic Quantum Number)

कक्षीय चुम्बकीय क्वांटम संख्या (Orbital Magnetic Quantum Number) को m से प्रदर्शित करते हैं। यह क्वांटम संख्या इलेक्ट्रान के अभिविन्यास को दर्शाता है अर्थात इसके द्वारा हम यह जान सकते हैं कि कोई भी उपकोश कितने कक्षको से मिलकर बना है।कक्षीय चुम्बकीय क्वांटम संख्या (Orbital Magnetic Quantum Number) का मान -l से +l तक होता है। यदि l का मान 2 है तो कक्षक (d) होगा और कक्षीय क्वांटम संख्या का मान -2,-1,0,+1,+2 होता है। यदि l का मान 3 तो कक्षीय क्वांटम संख्या का मान -3,-2,-1,0,+1,+2,+3 होता है।

4. चक्रण क्वांटम संख्या (Spin Quantum Number)

चक्रण क्वांटम संख्या (Spin Quantum Number) इलेक्ट्रान की अपने अक्ष पर चक्रण की दिशा व्यक्त करती है। इसको s से प्रदर्शित करते हैं। यह क्वांटम संख्या पदार्थ के गुणों की व्याख्या करता है। किसी परमाणु में इलेक्ट्रान केवल नाभिक के चारो ओर ही चक्कर नहीं लगाता है बल्कि अपनी अक्ष के परितः भी घूमता रहता है। यह इलेक्ट्रान दक्षिणावर्त भी घूम सकता है और वामावर्त भी घूम सकता है। इस प्रकार किसी निश्चित क्वांटम संख्या के लिए चक्रण क्वांटम संख्या के दो मान संभव हैं। किसी कक्षक में इलेक्ट्रान के चक्रण की दिशा वामावर्त +1/2 व दक्षिणावर्त -1/2 में होते हैं।

क्वांटम संख्या के प्रकार

समस्थानिक किसे कहते हैं?

निष्कर्ष

आज के इस आर्टिकल में हमने आपको क्वांटम संख्या किसे कहते हैं? क्वांटम संख्या की खोज किसने की, क्वांटम संख्या की परिभाषा क्या होती है, यह कितने प्रकार की होती है?मुख्य क्वांटम संख्या, द्विगंशी क्वांटम संख्या क्या होती हैं? चुंबकीय क्वांटम संख्या किसे कहते हैं?  इसके बारे में विस्तार के साथ बताया है तथा इसके साथ साथ हम आपको  चक्रण क्वांटम संख्या क्या है? इसके बारे में विस्तार के साथ बताया है। क्वांटम संख्या एक बहुत ही महत्वपूर्ण टॉपिक है जिसके बारे में केमिस्ट्री के छात्रों को पता होना चाहिए और क्वांटम संख्या निकलना आना चाहिए। इसी प्रकार की जानकारी हम अपनी इस वेबसाइट पर देते हैं इसी प्रकार के टॉपिक की जानकारी प्राप्त करने के लिए जुड़े रहिए हमारी हिंदी केमिस्ट्री की इस वेबसाइट के साथ तब तक के लिए धन्यवाद।

 

SOCIAL SHARE

2 Comments

  1. Sir bsc college 1year ka pdf chahiye sir kippa karke bej dijiye sir our hiske aalava zoology our botany ka bi notes bej dijiye sir abi padai karne me thikate ho rahi hai sir please sir send me

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *