सल्फ्यूरिक अम्ल का सूत्र क्या है और संपर्क विधि द्वारा इसका निर्माण

सल्फ्यूरिक अम्ल का सूत्र
4/5 - (1 vote)

हेल्लो दोस्तों स्वागत है आपका हमारी हिंदी केमिस्ट्री की वेवसाइट पर। आज के इस आर्टिकल में हम आपको सल्फ्यूरिक अम्ल क्या है? सल्फ्यूरिक अम्ल का सूत्र क्या होता है? और संपर्क विधि द्वारा सल्फ्यूरिक अम्ल का निर्माण कैसे करते हैं? इसके बारे में विस्तार के साथ बताएँगे। और इसके साथ साथ हम आपको सल्फ्यूरिक अम्ल के गुण कौन कौन से होते हैं तथा सल्फ्यूरिक अम्ल के उपयोग कौन कौन से होते हैं इसके बारे में विस्तार के साथ बताएँगे। यह एक बहुत महत्वपूर्ण टॉपिक है इससे सम्बंधित प्रश्न परीक्षाओं में पूँछ लिए जाते है। इस टॉपिक से सम्बंधित और भी जानकारी हम आज के इस आर्टिकल में देने वाले हैं।

पिछले आर्टिकल में हमने आपको अमोनिया का सूत्र क्या है? इसके बारे में विस्तार के साथ बताया।  जो एक बहुत ही महत्वपूर्ण टॉपिक है और कई बार बोर्ड परीक्षाओं में पूंछा जा चुका है। इस टॉपिक की जानकारी आप हमारी हिंदी केमिस्ट्री की वेवसाइट से ले सकते हैं  जिसमे हमने इस टॉपिक को विस्तार के साथ बताया है। आज के इस आर्टिकल में हम आपको सल्फ्यूरिक अम्ल के वारे में विस्तार के साथ बताने वाले हैं। और सल्फ्यूरिक अम्ल से सम्बंधित महत्वपूर्ण जानकारी देने वाले हैं। सल्फ्यूरिक अम्ल से सम्बंधित जानकारी पाने के लिए इस आर्टिकल को अंत तक जरूर पढ़े।

चीनी का रासायनिक सूत्र क्या है?

सल्फ्यूरिक अम्ल क्या है और इसका सूत्र

सल्फ्यूरिक अम्ल का क्या है? यह जानने से पहले हमें सल्फ्यूरिक अम्ल का सूत्र पता होना चाहिए। सल्फ्यूरिक अम्ल का सूत्र H2SO4 होता है।  सल्फ्यूरिक अम्ल एक बहुत ही महत्वपूर्ण रासायन है। इसका सबसे ज्यादा उपयोग बैट्रीयों में होता है। बैट्री को तो आपने अपने घरो में देखा ही होगा उसमे जो पानी होता है। वह सल्फ्यूरिक अम्ल ही होता है। इस प्रकार सम्पूर्ण विश्व में सल्फुरिक अम्ल महत्वपूर्ण रसायनों में से एक होता है।

सल्फ्यूरिक अम्ल का रासायनिक सूत्र = H2SO4

सल्फ्यूरिक अम्ल एक रासायनिक यौगिक (Chemical Compound) होता है। इसे Vitriol Oil के नाम से भी जाना जाता है। ये तीन तत्वों से मिलकर बना होता है। जिसमे सल्फर, हाइड्रोजन और ऑक्सिजन तत्व शामिल होते हैं। यह एक खनिज अम्ल होता है। यह एक रंगहीन और गंदहीन तरल पदार्थ होता है। और ये पानी के साथ प्रतिक्रिया जलधि से कर लेता है। ये कई नामों से जाना जाता है। इसे vitriol oil और हाइड्रोजन सल्फेट के नाम से भी जानते हैं।जर्मन के एक रासायनिक वैज्ञानिक जोहन ग्लोवर्ट ने सल्फर और पोटेशियम नाइट्रेट को एक जगह मिलाकर इस सल्फ्यूरिक अम्ल को तैयार किया। आप इसे प्रयोगशाला में भी बना सकते हैं।

सल्फ्यूरिक अम्ल क्या है

संपर्क विधि द्वारा सल्फ्यूरिक अम्ल का निर्माण

इससे ऊपर के लेख में हमने आपको सल्फ्यूरिक अम्ल का सूत्र बताया है। अब हम आपको सल्फ्यूरिक अम्ल के निर्माण की सम्पर्क विधि को बताने वाले हैं। संपर्क विधि से सल्फ्यूरिक अम्ल का निर्माण निम्न पदों में किया जाता है। इस विधि में प्रयुक्त यंत्र के प्रमुख भाग निम्नलिखित हैं।

पायराइट बर्नर

इसमें सल्फर या आयरन पायराइट को वायु की अधिकता में जलाकर SO2 गैस का निर्माण किया जाता है।

S + O __________>  SO2

4FeS2 +11O2  ________> 2Fe2O3 + 8SO2

शोधक कक्ष

पायराइट बर्नर से निकलने वाली गैसों में अशुद्धियों के रूप में धूल के कण तथा आर्सेनिक ऑक्साइड उपस्थित होते हैं।इसलिए इस गसीय मिश्रण को धूल कक्ष में प्रवाहित करते हैं। जिसमें ऊपर से तीव्र गति से जल की भाप प्रवाहित होती रहती है। जो गैसीय मिश्रण में उपस्थित धूल, आर्सेनिक ऑक्साइड की अशुद्धियों को अपक्षेपित कर देती है।

शीतलक (Coolant)

धुल कक्ष से प्राप्त गैसीय मिश्रण गर्म होता है। जिसे शीतलक द्वारा ठण्डा किया जाता है।

धावन कक्ष (Washing Tower)

शीतलक से प्राप्त गैसीय मिश्रण को धावन कक्ष में भेज दिया जाता है जिसमे क्वार्ट्ज भरा होता है और ऊपर से जल फुहार के रूप में गिरता है। जिससे गैसीय मिश्रण में उपस्थित जल में विलेय अशुद्धियाँ दूर हो जाती हैं।

शुष्कन कक्ष (Drying Tower)

धावन कक्ष से प्राप्त गैसीय मिश्रण को शुष्कन कक्ष में भेज दिया जाता है जिसमें फ्लिन्ट भरा होता है।और ऊपर से सल्फ्यूरिक अम्ल फुहार के रूप में गिरता है। जो गैसीय मिश्रण में उपस्थित जल वाष्प को अवशोषित कर लेता है।

आर्सेनिक शोधक कक्ष

शुष्कन कक्ष से प्राप्त गैसीय मिश्रण को आर्सेनिक शोधक कक्ष में भेजा जाता है। जो गैसीय मिश्रण में उपस्थित आर्सेनिक की अशुद्धियों को अवशोषित कर लेता है।

परिक्षण बॉक्स (Testing Box)

इस बॉक्स में गैसीय मिश्रण को प्रकाश से प्रवाहित करके उसकी शुद्धता की जाँच की जाती है।

संपर्क स्तम्भ (Contact Tower)

परिक्षण बॉक्स से निकलने वाली गैसों को संपर्क कक्ष में प्रवाहित करते हैं जिसमे प्लेटनीकृत ऐस्बेस्ट्रास या बेनेडियम पेंटाऑक्साइड उत्प्रेरक के रूप में उपस्थित होता है। जो SO2 और SO3 में ऑक्सीकृत कर देता है।

SO2 + O2  ______V2O5______> 2SO3

अवशोषक स्तम्भ (Absorption Tower)

संपर्क कक्ष से प्राप्त SOगैस को अवशोषण स्तम्भ में प्रवाहित करते हैं। जिसमे क्वार्ट्ज भरा होता है और ऊपर से सांद्र H2SO4 (सल्फ्यूरिक अम्ल) फुहार के रूप में गिरता है। जो SO3 को अवशोषित करके ओलियम बनता है। जिसमे जल मिलाने पर सल्फ्यूरिक अम्ल प्राप्त होता है।

H2SO4 + SO3 _______________> H2S2O7  ओलियम

H2S2O7 + H2_____________> 2H2SO4  सल्फ्यूरिक अम्ल

इस प्रकार से सम्पर्क विधि द्वारा सल्फ्यूरिक अम्ल का निर्माण हो जाता है।

संपर्क विधि द्वारा सल्फ्यूरिक अम्ल का निर्माण

सल्फ्यूरिक अम्ल के गुण (सल्फ्यूरिक अम्ल का सूत्र)

सल्फुरिक अम्ल के गुण निम्नलिखित होते हैं।

  • सल्फ्यूरिक अम्ल एक रंगहीन तेल के समान एक गाढ़ा द्रव है।
  • 293K ताप पर ये जैम जाता है। तथा 611K ताप पर ये उबलने लगता है।
  • ये जल में मिलाने पर अत्यधिक ऊष्मा उत्सर्जित करता है।
  • गर्म सान्द्र सल्फ्यूरिक अम्ल प्रबल ऑक्सिकारक होता है। जो धातु तथा अधातु दोनों को ऑक्सीकृत कर देता है।
  • सांद्र सफ्युरिक अम्ल एक प्रबल कारक है जो एल्कोहल, सुक्रोज, Oxalic Acid, Formic Acid आदि से जल के अणु को निष्कासित कर देता है।
  • सल्फ्यूरिक अम्ल कैल्शियम फ़्लोराइड से क्रिया करके हाइड्रोजन फ्लोराइड बनाता है।

सल्फ्यूरिक अम्ल के उपयोग (सल्फ्यूरिक अम्ल का सूत्र)

  • सल्फ्यूरिक अम्ल का उपयोग पेट्रोलियम के शोधन में किया जाता है।
  • सल्फ्यूरिक अम्ल का उपयोग निर्जलीय कारक के रूप में किया जाता है।
  • अपमार्जक के रूप में सल्फ्यूरिक अम्ल का उपयोग किया जाता है।
  • सीसा संचायक सेलो के निर्माण में सल्फ्यूरिक अम्ल का उपयोग किया जाता है।
  • प्रयोगशाला में अभिकर्मक के रूप में सल्फ्यूरिक अम्ल का उपयोग किया जाता है।
  • सल्फ्यूरिक अम्ल का उपयोग अमोनियम फास्फेट, सुपर फास्फेट आदि उर्वरको के निर्माण में किया जाता है।
  • इसका उपयोग ओक्सीकारक के रूप में भी किया जाता है।

समस्थानिक किसे कहते हैं?

निष्कर्ष

आज के इस आर्टिकल में हमने आपको सल्फ्यूरिक अम्ल क्या है? सल्फ्यूरिक अम्ल का सूत्र क्या होता है? और संपर्क विधि द्वारा सल्फ्यूरिक अम्ल का निर्माण कैसे करते हैं? इसके बारे में विस्तार के साथ बताया है और इसके साथ साथ हम आपको सल्फ्यूरिक अम्ल के गुण कौन कौन से होते हैं तथा सल्फ्यूरिक अम्ल के उपयोग कौन कौन से होते हैं इसके बारे में विस्तार के साथ बताया है सल्फ्यूरिक अम्ल का सूत्र व सल्फ्यूरिक अम्ल एक बहुत महत्वपूर्ण टॉपिक है जो केमिस्ट्री के स्टूडेंट को पता होना चाहिए। इसी तरह के महत्वपूर्ण टॉपिक की जानकारी हम अपनी हिंदी केमिस्ट्री की वेवसाइट पर देते रहते हैं। इसी प्रकार की महत्वपूर्ण जानकारी पाने के लिए जुड़े रहिए हमारी वेवसाइट के साथ तब तक के लिए धन्यवाद।

 

SOCIAL SHARE

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *