ऑक्सीकरण किसे कहते हैं? ऑक्सीकरण अभिक्रिया का समीकरण लिखिए

ऑक्सीकरण किसे कहते हैं
2.7/5 - (7 votes)

हैल्लो दोस्तों आज के इस आर्टिकल ऑक्सीकरण किसे कहते हैं? में आपका स्वागत है, पिछले आर्टिकल में हमने आपको एक बहुत ही महत्वपूर्ण टॉपिक प्रोटीन की सम्पूर्ण जानकारी प्राप्त करायी। जिसमें हमने आपको प्रोटीन क्या होती है? इसके कार्य क्या होते हैं? प्रोटीन्स के नाम व प्रोटीन की परिभाषा तथा प्रोटीन के वर्गीकरण के बारे में बताया। आज के इस आर्टिकल में हम आपको विस्तार के साथ बताएँगे कि ऑक्सीकरण किसे कहते हैं? या ऑक्सीकरण अभिक्रिया पर टिप्पणी कीजिए? ऑक्सीकरण अभिक्रिया का रासायनिक समीकरण क्या है? तथा हम  इसके उदाहरण के बारे में जानेगे।

हमारी हिंदी केमिस्ट्री की इस वेवसाइट पर आपको इस सबकी पूर्ण जानकारी प्राप्त की जाएगी। इस महत्वपूर्ण टॉपिक की पूरी जानकारी प्राप्त करने के लिए आप लोग हमारे साथ अंत तक जरूर बने रहिए।

रेडॉक्स अभिक्रिया किसे कहते हैं?

ऑक्सीकरण की परिभाषा

जब किसी अभिक्रिया में किसी योगिक या तत्व के साथ ऑक्सीजन या ऋणविद्धुती तत्व का संयोग होता है, या अभिक्रिया में योगिक या तत्व से हाइड्रोजन या धन विद्धुती तत्व का त्याग होता है, तो ऐसी अभिक्रिया को ऑक्सीकरण अभिक्रिया कहते हैं। दूसरे शब्दों में कहें तो जब कोई पदार्थ किसी विद्धुत ऋणात्मक तत्व अथवा ऑक्सीजन के साथ संयोग करता है तो इस अभिक्रिया को ऑक्सीकरण अभिक्रिया कहते हैं।

इस अभिक्रिया को उपचयन अभिक्रिया भी कहते हैं। वायुमंडल में लगभग 20 प्रतिशत डाई ऑक्सीजन पायी जाती है जिसके कारण अधिकतर तत्व इससे संयोग कर लेते हैं। इस अभिक्रिया का सबसे अच्छा उदाहरण हैं जब कार्बन को वायु या ऑक्सीजन की उपस्थिति में जलाया जाता है तो यह ऑक्सीजन से संयोग करके कार्बनडाई ओक्साइड गैस बनाती है।

ऑक्सीकरण अभिक्रिया का रासायनिक समीकरण

दोस्तों हम आप को बता चुके हैं कि ऑक्सीकरण किसे कहते हैं? तथा उसकी क्या परिभाषा होती है? अब हम आपको ऑक्सीकरण अभिक्रिया की रासायनिक समीकरण के बारे में बताएँगे।

1. जब सल्फर की अभिक्रिया ऑक्सीजन से कराते हैं तो सल्फर सल्फर डाई ओक्साइड प्राप्त होता है।

    S      +    O2    =     SO2

2. कार्बन का ऑक्सीकरण

   C     +      O2     =      CO2

कार्बन का ऑक्सीकरण

3. मैग्नीसियम का ऑक्सीकरण

   Mg    +     Cl =    Mgcl2

4. सोडियम का ऑक्सीकरण

   Na2    +    Cl2   =   2NaCl

5. सल्फर का ऑक्सीकरण

   2H2S    +    O2     =   2S    +    2H2O

6. क्लोरीन का ऑक्सीकरण

   SnCl2    +    2FeCl3   =    SnCl4   +   2FeCl2

7. कार्बन का ऑक्सीकरण

   CH4    +    O2    =    C    +    2H2O

8. आयोडाइड का ऑक्सीकरण

   2KI    +    Cl2    =    I2    +    2KCl

9. मैग्नीसियम का ऑक्सीकरण

   2Mg   +   O2    =    2MgO

10. CH4   +   2O2   =   CO2   +   2H2O

अभिक्रिया 10 में यदि हम ध्यान से देखें, तो मेथेन में हाइड्रोजन की जगह पर ऑक्सीजन आ गया है। जिससे रसायनशास्त्रीयों को प्रेरणा मिली कि हाइड्रोजन के निकलने को ऑक्सीकरण कहा जाए। इस प्रकार पदार्थ से हाइड्रोजन के निकलने को भी ऑक्सीकरण कहते हैं। निम्नलिखित अभिक्रिया में भी हाइड्रोजन का निकलना ऑक्सीकरण का उदाहरण है-

2H2S   +   O2   =   2S   +   2H2O

जैसे जैसे रसायनशास्त्रीयों के ज्ञान में वृध्दि होती गयी वैसे – वैसे वह अभिक्रिया जिसमें ऊपर लिखी अभिक्रिया शामिल है, में ऑक्सीजन को छोड़कर अन्य ऋणविद्धुती तत्वों का समावेश होता है, उनको भी वह ऑक्सीकरण कहने लगे। उदाहरण के लिए कुछ अभिक्रियाएँ निम्नलिखित हैं।

  • मग्नीशियम का ऑक्सीकरण फ्लोरीन द्वारा

Mg (s)   +   F2 (g)   =   MgF(s)

  • मग्नीशियम का ऑक्सीकरण क्लोरीन द्वारा

Mg (s)   +   Cl2 (g)   =   MgCl2 (s)

  • मग्नीशियम का ऑक्सीकरण सल्फर द्वारा

Mg (s)   +   S (s)   =   MgS (s)

उपर लिखी तीनो अभिक्रियाओं को ऑक्सीकरण अभिक्रिया समूह में शामिल करने पर रसायनशास्त्रीयों को प्रेरणा मिली तब वे  हाइड्रोजन जैसे अन्य धनविद्धुती तत्वों के निकलने को भी ऑक्सीकरण कहने लगे। इस प्रकार से नीचे लिखी अभिक्रिया –

2K4[Fe(CN)6] (aq) + H2O2 (aq) = 2K3[Fe(CN)6] (aq) + 2KOH (aq)

में धनविधुती तत्व पोटेशियम के हटने के कारण पोटेशियम फेरोसायनाइड का ऑक्सीकरण कह सकते हैं। इस प्रकार हम कह सकते हैं कि किसी पदार्थ में ऑक्सीजन या ऋणविधुती का जुड़ना तथा हाइड्रोजन या धनविधुती तत्व का हटना ऑक्सीकरण कहलाता है।

अथवा

किसी परमाणु , अणु , या  आयन से एक या एक से अधिक इलेक्ट्रॉन त्यागने की क्रिया को ऑक्सीकरण कहते हैं।

  • Na   =   Na+   +   e  (Na का Na+ में ऑक्सीकरण)
  • H2    =   2H+   +   2e–  (Hका H+ में ऑक्सीकरण)
  • Fe++ =   Fe+++ +  e–  (Fe++ का Fe+++ में ऑक्सीकरण)
  • 2Cl  =   Cl2    +   2e  (Cl का Clमें ऑक्सीकरण)

अथवा 

किसी तत्व की ऑक्सीकरण संख्या में वृद्धि होना उसका ऑक्सीकरण कहलाती है।

  • FeCl2    +   HgCl2   =   FeCl3   +   HgCl  (FeCl2 का FeCl3 में ऑक्सीकरण)

दोस्तों अभी तक आपने हमारे इस आर्टिकल में ऑक्सीकरण किसे कहते हैं? ऑक्सीकरण की परिभाषा क्या है? तथा ऑक्सीकरण अभिक्रिया की रासायनिक समीकरण के बारे में पूर्ण जानकारी प्राप्त की। अब हम आपको ऑक्सीकरण संख्या (Oxidation Number) के बारे में कुछ जानकारी देंगे, जिससे आप ऑक्सीकरण संख्या के बारे में भी अच्छी तरह जान पाएंगे। इसमें हम आपको ऑक्सीकरण संख्या निकालने के नियम के बारे में बताएँगे। जो परीक्षा की द्रष्टि से बहुत ही महत्वपूर्ण है, तथा कई बार परीक्षाओं में पूंछा जा चुका है। इस महत्वपूर्ण टॉपिक को जानने के लिए हमारे साथ अंत तक बने रहिए।

ऑक्सीकरण संख्या (Oxidation Number)

किसी योगिक में किसी एक तत्व के एक परमाणु पर उपस्थित आवेश की संख्या ऑक्सीकरण संख्या कहलाती है। ऑक्सीकरण संख्या ज्ञात करने के नियम निम्नलिखित हैं।

  1. मुक्त अवस्था में किसी तत्व की ऑक्सीकरण संख्या शून्य होती है। उदाहरण- H2 , N2 , O2 , Cl2 , NH3 , H2O , CO3 , COआदि की ऑक्सीकरण संख्या 0 होती है।
  2. किसी आयन या मूलक की ऑक्सीकरण संख्या उसमे उपस्थित आवेश की संख्या के बराबर होती है। उदाहरण- Cl , O , N , Na+ , Fe++  , Cr+++, NH4+  , SO4  , PO4   की ऑक्सीकरण संख्या क्रमशः -1, -2, -3, +1, +2, +3, +1 , -2, -3 हैं।
  3. क्षार धातु की ऑक्सीकरण संख्या 1 और मृदा क्षार धातु की ऑक्सीकरण संख्या 2 होती है। क्षार धातुएँ Li , Na , K , Rb, Cs ,Fr होती हैं, तथा मृदा क्षार धातुएँ Be , Mg , Ca , Sr , Ba , Ra होती हैं।
  4. सभी योगिकों में हाइड्रोजन की ऑक्सीकरण संख्या +1 होती है। लेकिन यदि हाइड्रोजन प्रबल धनविधुती तत्वों के साथ जुड़ा होता है, तब उसकी ऑक्सीकरण संख्या -1 होती है। NaH , KH , CaH2 , MgH2 में हाइड्रोजन की ऑक्सीकरण संख्या -1 होती है।
  5. सभी योगिको में ऑक्सीजन की ऑक्सीकरण संख्या -2 होती है। लेकिन परऑक्साइड में ऑक्सीजन की ऑक्सीकरण -1 और सुपर ऑक्साइडो में ऑक्सीजन की ऑक्सीकरण संख्या -1/2  तथा OF2 में ऑक्सीजन की ऑक्सीकरण संख्या +2 होती है।
  6. सभी योगिकों में फ्लोरीन की ऑक्सीकरण संख्या सदैव -1 होती है। लेकिन Cl , Br ,I की ऑक्सीकरण संख्या ऋणविधुती तत्वों के साथ धनात्मक होती है।
  7. किसी योगिक में उपस्थित सभी तत्वों की ऑक्सीकरण संख्या का योग सदैव शून्य होता है।

ऑक्सीकरण संख्या

हम निम्नलिखित योगिकों की ऑक्सीकरण संख्या ज्ञात करेंगे।

1. KMnO4

माना KMnO4 में Mn की ऑक्सीकरण संख्या = X

+1 + X +(-2)x4  =  0

1 + X – 8  =  0

X – 7 = 0

X =7 (अतः KMnO4 में Mn की ऑक्सीकरण संख्या 7 है)

2. K2MnO4

माना K2MnO4 में Mn की ऑक्सीकरण संख्या = X

(+1)2 + X  + (-2)4  =  0

2  +  X  –  8  =  0

X  –  6  =  0

X  =  6   (अतः K2MnOमें Mn की ऑक्सीकरण संख्या 6 है)

रासायनिक अभिक्रिया किसे कहते हैं?

निष्कर्ष

दोस्तों हमने आपको आज के इस आर्टिकल में ऑक्सीकरण किसे कहते हैं? ऑक्सीकरण की परिभाषा व ऑक्सीकरण अभिक्रिया की रासायनिक समीकरण तथा ऑक्सीकरण संख्या किसे कहते हैं? ऑक्सीकरण संख्या ज्ञात करने के नियम तथा ये किस प्रकार से निकालते हैं? इस सब के बारे में विस्तार के साथ बताया है। जो की परीक्षा की दृष्टि से बहुत ही महत्वपूर्ण है। और कई बार परीक्षा में पूंछा जा चुका है। इसी तरह के अन्य महत्वपूर्ण टॉपिक की जानकारी हम अपनी वेवसाइट पर देते रहते हैं। रासायन विज्ञान की और भी महत्वपूर्ण जानकारी प्राप्त करने के लिए जुड़े रहिए हमारी वेवसाइट के साथ तब तक के लिए धन्यवाद।

SOCIAL SHARE

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *